Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
10-11-2018, 01:28 PM,
#1
Lightbulb  Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
अनौखा इंतकाम


दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा एक और छोटी सी कहानी आपके लिए शुरू कर रहा हूँ और उम्मीद करता हूँ आपको ये कहानी ज़रूर पसंद आएगी . दोस्तो ये कहानी एक ऐसी औरत की कहानी है जिसने अपने पति के अलावा किसी गैर को देखा तक न था लेकिन जब उसके पति ने किसी और के साथ यौनसंबंध बनाए तो....................



ये कहानी रूबीना मक़सूद नाम की एक शादी शुदा लड़की की है.जो पेशे से एक लेडी डॉक्टर है.और आज तक अपनी जिंदगी के 28 साल गुज़ार चुकी है. 

रूबीना पैदा तो ओकरा सिटी के पास एक गाँव में हुई मगर पाली बढ़ी वो ओकरा सिटी में थी.

रूबीना के उस के अलावा एक बड़ी बहन और एक छोटा भाई हैं.रूबीना की बहन नरेन उस से एक साल बड़ी है.जब कि उस का भाई रमीज़ अहमद र्म रूबीना से एक साल छोटा है.

रूबीना ने फ़ातिमा जिन्नाह मेडिकल कॉलेज लाहोर से एमबीबीएस करने के बाद ओकरा के सरकारी हॉस्पिटल में हाउस जॉब स्टार्ट कर दी.

पढ़ाई के दौरान ही रूबीना के वालदान ने दोनो बहनों की शादी के लिए रिश्ता पक्का कर दिया था और फिर एमबीबीएस करने के तकरीबन एक साल बाद रूबीना और उस की बहन की एक ही दिन शादी हो गई.

रूबीना की बहन नरेन तो शादी के फॉरन बाद अपने हज़्बेंड के साथ मलेसिआ चली गई. जब के रूबीना ब्याह कर भावलपुर के करीब एक गाँव में चली आई.

रूबीना के हज़्बेंड मक़सूद अपने इलाक़े के एक बहुत बड़े ज़मींदार थे.

रूबीना ने मेडिकल कॉलेज के हॉस्टिल में रहने के दौरान अपनी कुछ क्लास फेलो लड़कियों के मुक़ाबले शादी से पहले अपने आप को सेक्स से दूर रखा था.इसलिए रूबीना अपनी शादी की रात तक बिल्कुल कंवारी थी. 

शादी के बाद रूबीना सुहाग रात को अपने रूम में सजी सँवरी बैठी थी.मक़सूद कमरे में आए और रूबीना के पास आ कर बेड पर बैठ गये.

रूबीना जो कि अपना घूँघट निकाल कर मसेहरी पर बैठी हुई थी. वो अपने शोहर मक़सूद को अपने साथ बेड पर बैठा हुआ महसूस कर के शरम के मारे अपने आप में और भी सिकुड सी गई.

मक़सूद ने जब रूबीना को यूँ शरमाते देखा तो कहने लगा कि रूबीना मेरी जान आज मुझ से शरमाओ मत अब में कोई गैर थोड़े ही हूँ तुम्हारे लिए अब तो हम दोनो मियाँ बीवी हैं. 

फिर थोड़ी देर मक़सूद ने रूबीना से इधर उधर की बाते कीं.जिस की वजह से रूबीना की मक़सूद से झिझक थोड़ी कम होने लगी.

थोड़ी देर बातें करने के बाद मक़सूद ने जब देखा कि अब रूबीना थोड़ी कम शरमा रही है तो उस ने आगे बढ़ कर रूबीना के गुदाज बदन को अपनी बाहों में भर लिया.जिस की वजह से रूबीना तो शरम से और सिमट कर रह गई. 
Reply
10-11-2018, 01:29 PM,
#2
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
मक़सूद अपनी बीवी की बात सुन के जोश में आ गया और तेज़ तेज़ झटके देने लगा और साथ ही रूबीना के मम्मो और निपल्स को भी काट रहा था. उस ने तो रूबीना के मम्मो ऑर निप्पलो को काट काट कर सूजा दिया.

आख़िर कुछ टाइम की चुदाई के बाद मक़सूद रूबीना की चूत में ही डिस्चार्ज हुआ और रूबीना के उपर ही लेट गया. 

इस के बाद मक़सूद पूरी रात ना खुद सोया और ना ही रूबीना को सोने दिया और उसे हर ऐंगल से चोदा .कभी घोड़ी बना कर तो कभी खड़ा करके, कभी सीधा और कभी साइड से. 

सुहाग रात को मक़सूद ने रूबीना को सेक्स का एक ऐसा नया और मजेदार चस्का लगाया कि वो अपने शोहर और सेक्स की दिवानी हो गई.

रूबीना की शादी शुदा जिंदगी का आगाज़ बहुत अच्छा हुआ था और वो अपने ससुराल में बहुत खुश थी.

हालाँकि रूबीना के ससुराल में किसी चीज़ की कोई कमी नही थी.मगर फिर भी रूबीना का दिल अपनी नौकरी छोड़ने को नही कर रहा था.

रूबीना ने जब अपने शोहर मक़सूद और ससुराल वालों से इस बारे में बात की.तो उस के शोहर या ससुराल वालों को उस की नोकरी जारी रखने पर कोई ऐतराज नही था.

इसलिए शादी के बाद रूबीना ने अपना ट्रान्स्फर विक्टोरीया हॉस्पिटल बहावलपुर में करवा कर अपनी जॉब जारी रखी.

अपनी शादी के 6 महीने बाद ही रूबीना को इस बात का ईलम हो गया.कि अक्सर बड़े ज़मींदारों की तरह उस के शोहर मक़सूद भी उन के खेतों में काम करने वाले अपने मजदूरों की बिवीओ से लेकर गाँव की कई और औरतों से नाजायज़ ताल्लुक़ात रखते हैं. 

रूबीना को इस बात के बारे में पता चलने के बाद दुख तो बहुत हुआ.लेकिन रूबीना ना तो अपने शोहर को इन कामों से रोक नही सकती थी. और ना ही उस में इतनी हिम्मत थी कि वो अपने शोहर से इस बारे में कोई बात भी करती.

खुद एक ज़मींदार घराने से ताल्लुक होने की वजह से रूबीना ये बात खूब जानती थी.कि उन जैसे ज़मींदार घरानों में ये सब कुछ चलता है.

इसलिए रूबीना ने शुरू शुरू में ना चाहते हुए भी अपने शोहर के इन नाजायज़ कामों को नज़र अंदाज करना शुरू कर दिया.

रूबीना की शादी को अभी 8 महीने ही गुज़रे थे कि एक दिन वो हॉस्पिटल से जल्दी घर आ गई. 

रूबीना जब अपनी गाड़ी से उतार कर हवेली में आई तो हवेली में काफ़ी खामोशी थी. 

उस ने घर में काम करने वाली एक नौकरानी से पूछा कि सब लोग किधर हैं तो नौकरानी ने बताया कि उस के सास ससुर उस की दोनो ननदों के साथ सहर शॉपिंग के लिए गये हैं. 

रूबीना काफ़ी थकि हुई थी इसलिए वो घर के उपर वाली मंज़िल पर अपने रूम की तरफ चल पड़ी.

ज्यूँ ही रूबीना अपने रूम के पास पहुँची तो उसे अपने रूम से अजीब सी आवाज़े सुनाई दी. जिस को सुन कर रूबीना थोड़ी हेरान हुई.

रूबीना ने कमरे के बंद दरवाज़े को आहिस्ता से हाथ लगाया तो पता चला कि दरवाज़ा तो अंदर से बंद है. 

रूबीना को कुछ शक हुआ कि ज़रूर कोई गड़ बड है. उस ने की होल से कमरे के अंदर देखने की कोशिश की पर उसे कुच्छ नज़र नही आया.

इतनी देर में रूबीना को ख़याल आया कि कमरे के दूसरी तरफ एक खिड़की बनी हुई है.जिस पर एक परदा तो लगा हुआ है मगर वो कभी कभी हवा की वजह से थोड़ा हट जाता है. और अगर वो कोशिश करे तो उस जगह से वो कमरे के अंदर झाँक सकती है.

रूबीना ने इधर उधर नज़र दौड़ाई तो उसे एक कोने में एक पुरानी कुर्सी पड़ी हुई नज़र आई.

रूबीना फॉरन गई और उस कुर्सी को कमारे की खिड़की के नीचे रखा और फिर खुद कुर्सी पर चढ़ गई. 

ये रूबीना की खुशकिस्मती थी या फिर बदक़िस्मती कि खिड़की का परदा वाकई थोड़ा सा हटा हुआ था. जिस वजह से रूबीना को कमरे के अंदर झाँकने का मोका मिल गया.

कमरे में नज़र डालते ही अंदर का मंज़र देख कर रूबीना की तो जैसे साँसे ही रुक गई.

रूबीना ने देखा कि कमरे में उस के सुहाग वाले बेड पर उस का शोहर मक़सूद घर की एक नौकरानी को घोड़ी बना कर पीछे से चोद रहा था. 
Reply
10-11-2018, 01:30 PM,
#3
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
हालाँकि रूबीना ने अपने शोहर की इन हरकतों के बारे में बहुत पहले सुन तो बहुत कुछ रखा था. मगर आज तक वो इन बातों को सुन कर दिल ही दिल में कुढती रही थी.

ये हक़ीकत है कि किसी बात या काम के बारे में सुनने और उस उस काम को अपनी आँखों के सामने होता हुआ देखने में बहुत फरक होता है.

इसलिए आज अपनी आँखो के सामने और अपने ही बेड पर एक नौकरानी को अपने शोहर से चुदवाते हुए देख कर रूबीना के सबर का पैमाना लबरेज हो गया और वो गुस्से से पागल हो गई.

“मक़सूद ये आप क्या कर रहे हैं” रूबीना ने गुस्से में फुन्कार्ते हुए अपने शोहर को खिड़की से ही मुखातिब किया.

अपनी चोरी पकड़े जाने पर मक़सूद और नोकारानी की तो सिट्टी पिट्टी ही गुम हो गई.और उन दोनो के जिस्मों में से तो जैसे जान ही निकल गई.और उन दोनो ने अपनी चुदाई फॉरन रोक दी. 

मक़सूद को तो समझ ही नही आ रहा था कि वो क्या कहे और क्या करे.

“आप दरवाजा खोलिए में अंदर आ कर आप से बात करती हूँ” रूबीना ये कहती हुई कुर्सी से नीचे उतर कर कमरे की तरफ चल पड़ी.

जितनी देर में रूबीना चक्कर काट कर कमरे के दरवाज़े पर पहुँची .मक़सूद नौकरानी को उस के कपड़े दे कर कमरे से रफू चक्कर कर चुका था.

मक़सूद ने रूबीना के कमरे में आने के बाद उस से अपने किए की माफी माँगनी चाही.

मगर रूबीना आज ये सब कुछ अपनी नज़रों के सामने होता देख कर रूबीना अपने शोहर को किसी भी तौर पर माफ़ करने को तैयार नही थी.

उस दिन रूबीना और मक़सूद की पहली बार लड़ाई हुई और फिर रूबीना ने गुस्से में अपना समान पॅक किया और अपना घर छोड़ कर ओकरा अपने माता पिता के पास चली आई. 

रूबीना और मक़सूद की नाराज़गी को एक महीने से ज़्यादा गुज़र गया और इस दौरान रूबीना अपने अम्मी अब्बू के घर में ही रही. 

इस दौरान फॅमिली के बड़े बुजुर्गों ने रूबीना और मक़सूद को समझा बुझा कर उन दोनो की आपस में सुलह करवा दी और यूँ रूबीना को चार-ओ-नचार वापिस मक़सूद के पास आना ही पड़ा.

अभी रूबीना को दुबारा अपने शोहर के पास वापिस आए हुए चार महीने गुज़र चुके थे. 

वैसे तो रूबीना ने घर के बुजुर्गों के कहने पर अपने शोहर से सुलह तो कर ली थी. मगर रूबीना को अब अपने शोहर से वो पहले वाला लगाव और प्यार नही रहा था.

मक़सूद अब भी उसे हफ्ते में एक दो बार चोदता था. मगर रूबीना चूँकि अभी तक नोकरानि वाली वाकिये को भुला नही पा रही थी.इसलिए उसे अब मक़सूद के साथ चुदाई का वो पहले जैसा मज़ा नही आता था.

लेकिन अब कुछ भी हो उसे एक फर-मा-बर्दार बीवी बन कर अपनी जिंदगी तो गुज़ारना थी. इसलिए वो इस वकिये को भुलाने के लिए चुप चाप अपनी लाइफ में बिजी हो गई.

हॉस्पिटल में काम के दौरान रूबीना ये बात अच्छी तरह जानती थी.कि उस के कुछ मेल साथी डॉक्टर्स हॉस्पिटल की नर्सों को ड्यूटी के दौरान चोदते हैं.

ओकरा में अपनी हाउस जॉब और फिर भावलपुर में शादी के बाद भी उस के कुछ साथी डॉक्टर्स ने रूबीना के साथ जिन्सी ताल्लुक़ात कायम करने की कोशिश की थी. मगर हर दफ़ा रूबीना ने उन की ये ऑफर ठुकरा दी.

अब जब से रूबीना ने अपने शोहर को रंगे हाथों अपनी नौकरानी को चोदते हुए पकड़ा था. तब से रूबीना के दिल ही दिल में एक बग़ावत जनम लेने लगी थी.

अब नज़ाने क्यों उस का दिल चाह रहा था. कि जिस तरह उस के शोहर ने शादी के बाद भी दूसरी औरतों से नाजायज़ ताल्लुक़ात रख कर रूबीना के प्यार की तोहीन की है.

इसी तरह क्यों ना रूबीना भी किसी और मर्द से चुदवा कर अपने शोहर से एक किस्म का इंतिक़ाम ले.

रूबीना के दिल में इस तरहके बागी याना ख़यालात जनम तो लेने लगे थे.लेकिन सौ बार सोचने के बावजूद रूबीना जैसी शरीफ लड़की में इस किस्म के ख़यालात को अमली -जामा पहना ने की कभी हिम्मत नही पड़ी थी. 

फिर रूबीना की जिंदगी में अंजाने और हादसती तौर पर एक ऐसा वाकीया हुआ जिस ने रूबीना की जिंदगी में सब कुछ बदल कर रख दिया.

रूबीना का ससुराली गाँव भावलपुर से तक़रीबन एक घंटे की दूरी पर है. 
Reply
10-11-2018, 01:30 PM,
#4
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
रूबीना के शोहर और ससुराल वाले गाँव में रहने के बावजूद खुले ज़हन के लोग हैं और वो आम लोगो की तरह अपने घर की औरतों पर किसी किस्म की सख्ती नही करते.

इसलिए रूबीना खुद ही अपनी कार ड्राइव कर के रोज़ाना अपने गाँव से शहर अपनी जॉब पर आती जाती थी. 

जिस पर उस के शोहर और ससुराल वालो को किसी किसम का कोई ऐतराज नही था. 

रूबीना की ड्यूटी ज़्यादा तर सुबह के टाइम ही होती. और वो अक्सर शाम का अंधेरा होने से पहले पहले अपने गाँव वापिस चली आती.

ये सिलसला कुछ दिन तो ठीक चलता रहा. मगर फिर कुछ टाइम बाद रूबीना के हॉस्पिटल के दो डॉक्टर्स का एक ही साथ दूसरे शहरो में तबादला हो गया. 

जिस की वजह से हॉस्पिटल में काम का बोझ बढ़ गया और अब रूबीना को जॉब से फारिग होते होते रात को काफ़ी देर होने लगी.

चूँकि रूबीना के गाँव का रास्ता रात के वक़्त महफूज नही था. जिस की वजह से रूबीना के शोहर मक़सूद रूबीना का रात के वक़्त अकेले घर वापिस आना पसंद नही करते थे. 

इसलिए जब कभी भी रूबीना लेट होती तो वो अपने शोहर को फोन कर के बता देती.

तो फिर या तो रूबीना के शोहर खुद रूबीना को लेने हॉस्पिटल पहुँच जाते. या फिर गाँव से अपने ड्राइवर को रूबीना को लेने के लिए भेज देते.

इसी दौरान रूबीना के छोटे भाई रमीज़ ने भी अपनी एमबीबीएस की स्टडी मुकम्मल कर ली तो उस की हाउस जॉब भी भावलरपुर में रूबीना के ही हॉस्पिटल में स्टार्ट हो गई.

रूबीना ने अपने भाई रमीज़ को अपने घर में आ कर रहने की दावत दी. मगर रमीज़ ना माना और उस ने हॉस्पिटल के पास ही एक छोटा सा फ्लॅट किराए पे लिए लिया.

उस फ्लॅट में एक बेड रूम वित अटेच्ड बाथरूम था.जिस के साथ एक छोटा सा किचन और लिविंग रूम था. जो कि रमीज़ की ज़रूरत के हिसाब से काफ़ी था. 

अब रमीज़ के अपनी बहन रूबीना के हॉस्पिटल में जॉब करने की वजह से रूबीना को एक सहूलियत ये हो गई.

कि जब कभी एमर्जेन्सी की वजह से रूबीना को रात के वक़्त देर हो जाती.या रूबीना का शोहर या ड्राइवर रात को किसी वजह से उसे लेने ना आ पाते तो रूबीना गाँव अकेले जाने की बजाय वो रात अपने छोटे भाई रमीज़ के पास उस के फ्लॅट में ही रुक जाती. 

स्टार्ट में रमीज़ की ड्यूटी रात में होती और रूबीना दिन में ड्यूटी करती थी. इसलिए जब कभी भी रूबीना रमीज़ के फ्लॅट पर रुकती तो एक वक़्त में उन दोनो बहन भाई में से कोई एक ही फ्लॅट पर होता था.

फिर कुछ टाइम गुज़रने के बाद रमीज़ की ड्यूटी भी चेंज हो कर सुबह की ही हो गई.

रमीज़ की ड्यूटी का टाइम चेंज होने से अब मसला ये हो गया कि जब रूबीना एक आध दफ़ा लेट ऑफ होने की वजह से रमीज़ के पास रुकी तो फ्लॅट में एक ही बेड होने की वजह से रमीज़ को कमरे के फर्श पर बिस्तर लगा कर सोना पड़ा.

एक बहन होने के नाते रूबीना ये बात बखूबी जानती थी कि रमीज़ को बचपन ही से फर्श पर बिस्तर लगा कर सोने से नींद नही आती थी. 

रमीज़ ने एक आध दफ़ा तो जैसे तैसे कर के फर्श पर बिस्तर लगा कर रात गुज़ार ही ली. 

फिर कुछ दिनो बाद रमीज़ ने रूबीना को बताए बगैर एक और बेड खरीदा और उस को ला कर अपने बेड रूम में रख दिया.

चूं कि रूबीना तो कभी कभार ही रमीज़ के फ्लॅट पर रुकती थी. इसलिए जब रमीज़ ने अपनी बहन से दूसरा बेड खरीदने का ज़िक्र किया तो रूबीना को उस का दूसरा बेड खरीदने वाली हरकत ना जाने क्यों एक फज़ूल खर्ची लगी. जिस पर रूबीना रमीज़ से थोड़ा नाराज़ भी हुई.

फिर दूसरे दिन रूबीना ने अपने भाई के फ्लॅट में जा कर बेड रूम में रखे हुए बेड का मुआयना किया तो पता चला कि चूँकि बेड रूम का साइज़ पहले ही थोड़ा छोटा था. 

इसलिए जब कमरे में दूसरा बेड रख गया तो रूम में जगह कम पड़ गई. जिस की वजह से कमरे में रखे हुए दोनो बेड एक दूसरे के साथ मिल से गये थे.

रूबीना “रमीज़ ये क्या तुम ने तो बेड्स को आपस में बिल्कुल ही जोड़ दिया है बीच में थोड़ा फासला तो रखते”

रमाीज़: “में क्या करता कमरे में जगह ही बहुत कम है बाजी”

“चलो गुज़ारा हो जाए गा, मैने कौन सा इधर रोज सोना होता है” कहती हुई रूबीना कमरे से बाहर चली आई.

वैसे तो हर रोज रूबीना की पूरी कोशिस यही होती कि वो रात को हर हाल में अपने घर ज़रूर पहुँच जाय .मगर कभी कबार ऐसा मुमकिन नही होता था.

इस के बाद फिर जब कभी रूबीना अपने भाई के पास रात को रुकती. तो वो दोनो बहन भाई रात देर तक बैठ कर अपने घर वालो और अपने रिश्तेदारों के बारे में बातें करते रहते. इस तरह रूबीना का अपने भाई के साथ टाइम बहुत अच्छा गुज़र जाता था.
Reply
10-11-2018, 01:30 PM,
#5
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
ऐसे ही दिन गुज़र रहे थे. कहते हैं ना कि वक़्त सब से बड़ा मरहम होता है. इसलिए हर गुज़रते दिन के साथ साथ रूबीना का रवईया आहिस्ता आहिस्ता अपने शोहर से दुबारा थोड़ा बहतर होने लगा था. 

उन दिनो गन्नों की बुआई का सीज़न चल रहा था. जिस वजह से मक़सूद दिन रात अपने खेतों में बिजी रहते थे. इसलिए पिछले दो हफ्तों से वो और रूबीना आपस में चुदाई नही पाए थे. 

लेकिन आज सुबह जब रूबीना गाड़ी में बैठ कर हॉस्पिटल के लिए निकल रही थी. तो मक़सूद उस के पास आ कर कहने लगा कि काम ख़तम हो गया है और अब में फ्री हूँ .फिर उस ने आँख दबा कर रूबीना को इशारा किया “आज रात को” और खुद ही हंस पड़ा.

रूबीना ने मक़सूद की बात का कोई जवाब नही दिया और खामोशी से अपनी गाड़ी चला दी. 

बेशक रूबीना मक़सूद के सामने खामोश रही थी. मगर हॉस्पिटल की तरफ गाड़ी दौड़ाते हुए रूबीना ने बेखयाली में जब अपनी चूत पर खारिश की. तो उसे अपनी टाँगों के बीच अपनी चूत बहुत गीली महसूस हुई.

रूबीना समझ गई कि अंदर ही अंदर आज काफ़ी टाइम बाद उस की फुद्दी को खुद ब खुद लंड की तलब हो रही थी.

उस रोज ना चाहते हुए भी बे इकतियार रूबीना सारा दिन बार बार अपनी घड़ी को देखती रही कि कब दिन ख़तम हो और कब वो घर जाय और अपने शोहर का लंड अपनी फुद्दी में डलवाए. 

आज उस के दिल में एक अजीब सी एग्ज़ाइट्मेंट थी. और उस दिन दोपहर के बाद दो मेजर सर्जरी भी थीं सो काम भी बहुत था. 

खैर दूसरी सर्जरी के दौरान रूबीना को उम्मीद से ज़यादा टाइम लग गया और वो बुरी तरह थक भी गई थी.

दो घंटे और थे और फिर वो होती और उस का शोहर और पूरी रात................................

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

रात को अचानक रूबीना की आँख खुली. उस का बदन कमरे में गर्मी की शिद्दत से पसीना पसीना हो रहा था.

रूबीना को अहसास हुआ कि उस की कमीज़ उतरी हुई है और वो सिर्फ़ ब्रा और शलवार में अपने बेड पर लेटी हुई है.

गर्मी की शिद्दत की वजह से ना जाने कब और कैसे रूबीना ने अपनी कमीज़ उतार दी इस का उसे खुद भी पता नही चला. 

रूबीना अभी भी नींद की खुमारी में थी और इस खुमारी में रूबीना ने महसूस किया उस के हाथ में उस के शोहर का लंड था.

जिसे वो खूब सहला रही थी. और शलवार में मौजूद उस के शोहर का लंड रूबीना के हाथों में झटके मार रहा था.

इतने में रुबीना का दूसरा हाथ मक़सूद के पेट से हल्का सा टच हुआ तो रूबीना को अंदाज़ा हुआ कि उस की तरह उस के शोहर की कमीज़ भी उतरी हुई है.

रूबीना अपने शोहर के लंड को अपने काबू में पा कर मुस्कराने लगी मगर सोते हुए भी उसने लंड को नही छोड़ा. 

कमरे में अंधेरा था.जिस की वजह से कोई भी चीज़ दिखाई नही दे रही थी. मगर रूबीना को कमरे में गूँजती हुई अपने हज़्बेंड की तेज तेज़ सांसो से पता चल रहा था कि वो भी जाग रहे हैं. 

रूबीना ने अपने शोहर के लंड पर नीचे से उपर तक हाथ फेरा तो उस के शोहर के मुँह से एक ज़ोरदार सी “सस्स्स्स्स्स्सस्स” सिसकारी निकली गई. 

सिसकारी की आवाज़ से लगता था आज रूबीना का शोहर कुछ ज़यादा ही गरम हो रहा था. 

रूबीना को भी अपने हाथ में थामा हुआ अपने शोहर का लंड आज कुछ ज़यादा ही लंबा,मोटा और सख़्त लग रहा था. खास कर लंड की मोटाई से तो आज ऐसे महसूस हो रहा था कि लंड जैसे फूल कर डबल हो गया हो. 

रूबीना को पूरे दिन की सख़्त मेहनत का अब फल मिल रहा था. 
Reply
10-11-2018, 01:31 PM,
#6
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
वो आज पूरा दिन हॉस्पिटल में बहुत ही बिजी रही थी. 

और फिर शाम को दूसरी सर्जरी में कॉंप्लिकेशन्स की वजह से रूबीना को हॉस्पिटल में काफ़ी देर हो गई थी और रूबीना को ऐसे लग रहा था कि वो आज रात अपने घर नही जा पाएगी...इतनी रात....इतनी रात..... 

अचानक रूबीना के दिमाग़ ने झटका खाया और वो नीद से पूरी तरह जाग गई. 

उफ्फ रात को तो में बहुत लेट हो गयी थी और फिर मेने घर फोन किया था कि में घर नही आ पाऊँगी......फिर में अपने भाई के फ्लॅट पर.... सोते सोते ये सोच कर ही अचानक रूबीना के पूरे जिस्म में एक झुरझरी सी दौड़ गई...... 

“में अपने शोहर के साथ नही.... बल्कि मे अपने सगे भाई.....

नही नही नही.....नही....................” सर्दी की ठंडी रात में भी रूबीना का बदन पसीने से तरबतर हो गया. 

“ये हुआ कैसे” रूबीना सोच रही थी. 

जब वो रमीज़ के फ्लॅट में आई थी तो उस का भाई सोया हुया था. 

फ्लॅट की एक चाभी रूबीना पास भी थी. रूबीना ने दरवाज़ा खोला और कपड़े चेंज किए बिना ही लेट गई और लेटते ही उसे नींद आ गई.

फ्लॅट में आते वक़्त रूबीना इतना थकि हुई थी. जिस की वजह से उसे डर था कि नींद के मारे वो कहीं रास्ते में ही ना गिर जाए. 

तो फिर क्या रात में भाई ने. “नही, एसा नही हो सकता...मेरा भाई एसा नही है! तो फिर कैसे?”

रूबीना सोच रही थी...”कैसे मेरे हाथ में अपने भाई का लंड आ गया ... अगर उसने कोई ग़लत हरकत नही की” 

रूबीना ने जब आँखे खोल कर गौर से देखा तो उसे अंदाज़ा हुआ कि रात को नींद की वजह से वो करवटें बदलते बदलते ना जाने किस तरह अपने भाई के बेड पर चली आई है.

हालाँकि दोनो बेड पूरे जुड़े हुए नही थे. लेकिन वो इतने करीब थे कि नींद में करवटें बदलते हुए इंसान एक बेड से दूसरे बेड पर ब आसानी जा सकता था.

“तो इसका मतलब में ही... अपने भाई के बेड पर....उसका लंड हाथ में लेकर....उफफफफफफफफ्फ़ नही...वो क्या सोचता होगा मेरे बारे में?....रूबीना अपनी नींद के खुमार में अपने आप से ही बातें किए जा रही थी.

रूबीना ने अपने भाई की तरफ से कोई हलचल महसूस नही की.लगता था शायद रमीज़ को अंदाज़ा हो गया था कि उस की बहन रूबीना अब शायद जाग गयी है और ये जो कुछ उन के बीच हुआ वो सब नींद में होने की वजह से हो गया था.

दोनो बहन भाई के बीच में मुश्किल से दो फीट का फासला होगा और वो दोनो चुप चाप लेटे हुए थे. 

रूबीना की समझ में कुछ नही आ रहा था कि वो क्या करे. वो ये सोच कर शर्म से पानी पानी हो रही कि उस का भाई उस के बारे में क्या सोचेगा. 

कमरे में बिल्कुल सन्नाटा था. रह रह का रूबीना अपने दिल-ओ-दिमाग़ में अपने आप को मालमत कर रही थी.

”ये तूने क्या कर दिया?अब रमीज़ क्या सोचता होगा? मेरी बड़ी बहन एसी है... अपने भाई के लंड को...?

रूबीना अभी इन ही सोचो में गुम थी कि उसे एक और झटका लगा.

रूबीना ने अभी भी अपने भाई का लंड पकड़ा हुआ था. जब कि उसे नींद से जागे हुए कोई पंद्रह मिनिट हो गये थे. 
Reply
10-11-2018, 01:31 PM,
#7
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
रूबीना ने सोचा कि वो जल्दी से अपना हाथ रमीज़ के लंड से हटा ले मगर उस वक़्त सूरतेहाल एसी थी कि वो चाहते हुए भी एसा भी न कर सकी. रूबीना डर रही थी कि अगर वो कोई हरकत करती है तो उस का भाई कुछ बोल ना पड़े.

“क्या करूँ” रूबीना ये सोच रही थी मगर उस की समझ में कुछ नही आ रहा था. ऐसे ही पड़े पड़े कोई एक आध मिनिट और गुज़र गया और रूबीना का हाथ अभी तक रमीज़ के लंड पर था.

रमीज़ का लंड अब कुछ ढीला हो गया था मगर फिर भी रूबीना को अपने भाई रमीज़ का लंड साइज़ में काफ़ी बड़ा महसूस हो रहा था. 

आधी रात को अंधेरे कमरे में बेड पर साथ साथ सीधे लेटे दोनो बहन भाई जाग तो रहे थे. मगर उन दोनो में कोई नही जानता था कि वो अब करें तो क्या करें. 

“मक़सूद के लंड के मुक़ाबले में रमीज़ का लंड काफ़ी लंबा मोटा है”उफफफ्फ़ में भी क्या सोच रही हूँ अपने ही भाई के लंड के बारे में.... रूबीना ने अपने आप को कोसा.

मगर सच में है तो बहुत बड़ा....उफ्फ पूरा खड़ा हो कर तो......मुझे एसा नही सोचना चाहिए रूबीना ने अपने आप को फिर डांता

“भाई तो तस्सली करा देता होगा सच में....हाईए कितना लंबा है मोटा तो बाप रेरर....किसी कंवारी लड़की की तो....” सोचते सोचते कब रूबीना ने अपना हाथ रमीज़ के लंड के गिर्द कस दिया, उसे पता ही ना चला. 

रूबीना के हाथ ने जैसे ही रमीज़ के लंड को कसा तो रमीज़ के मुँह से सिसकारी फुट पड़ी. और उस के सोते हुए लंड ने फिर झटका खाया और फिर से एक दाम खड़ा होने लगा. 

रमीज़ की सिसकी को सुन कर रूबीना एक दम हडबडा कर अपने ख्यालों की दुनिया से बाहर निकल आई और उस ने फॉरन अपने भाई के लंड को अपने हाथ से छोड़ दिया.

मगर जब एक जवान कुँवारा मर्द हो और साथ मे एक खूबसूरत जवान शादी शुदा औरत जो उस की सग़ी बहन हो. और वो औरत जब रात की तन्हाई में एक ही बिस्तर पर आधी नंगी लेटी हुई उस जवान मर्द के लंड को सहला रही हो.तो एक भाई होने के बावजूद रमीज़ अपने आप को कैसे काबू में कैसे रखता.

इसलिए जब रमीज़ ने अपने लंड को अपनी बहन के हाथ से निकलता हुआ महसूस किया तो उस ने फॉरन ही रूबीना की तरफ करवट बदली.

रमीज़ ने रूबीना को पकड़ कर अपनी तरफ कैंचा और फिर अपनी बहन के हाथ को पकड़ कर उसे दुबारा अपने लंड पर रख दिया.

साथ ही रमीज़ का लेफ्ट हॅंड सरकता हुआ रूबीना की टाँगो के बीच आया और उस ने अपना हाथ पहली बार अपनी बहन की शादी शुदा चूत पर रख दिया.

रमीज़ का हाथ फुद्दी पर लगते ही रूबीना का बदन अकड सा गया. रूबीना ने रमीज़ को रोकने के लिए थोड़ी मज़ामत करते हुए रमीज़ के हाथ को अपनी चूत से हटाने की कोशिश की.मगर वो उसे रोक नही पाई और रमीज़ का हाथ बेताबी से अपनी बहन की फूली हुई चूत पर फिसलता रहा.

रूबीना पिछले दो हफ्तों से अपने शोहर मक़सूद से नही चुदि थी इसलिए आज रूबीना के बदन मे आग लगी हुई थी. और उस की फुद्दि से पानी बहने लगा था.

रूबीना की फुद्दि लंड माँग रही थी और लंड रूबीना के हाथ मे था..

उस के अपने सगे छोटे भाई का लंबा चौड़ा लंड.

जवानी की गर्मी और सेक्स की हवस ने उन दोनो बहन भाई की सोचने और समझने की सालिहात जैसी ख़तम कर दी थी और शरम का परदा गिरना सुरू हो गया था.

रमीज़ के हाथ उस की बहन की पानी छोड़ती हुई फुद्दी से खेलने में मसरूफ़ रहे. जिन के असर से रूबीना का बदन अब ढीला पड़ने लगा. 

जब रमीज़ ने महसूस किया कि उस की बहन थोड़ी ढीली पड़ गई है तो उस का होसला भी बढ़ गया. और उस का हाथ अपनी बहन की फुद्दी को छोड़ कर उस के मम्मे पर आया और ब्रा के उपर से अपनी बहन के जवान तने हुए मम्मो पर हाथ फेरने लगा.

उधर रमीज़ के बहकते हाथों ने रूबीना की फुद्दी में भी हलचल मचा दी थी.इसलिए उस को भी अब अपने आप पर कंट्रोल नही रहा और फिर रूबीना का हाथ भी खुद ब खुद तेज़ तेज़ उस के अपने भाई के लंड पर दुबारा चलने लगा. उपर से नीचे तक रूबीना अपने भाई के लंड को मुट्ठी में भर कर निचोड़ रही थी. 

अब रमीज़ ने अपने हाथ से रूबीना के मम्मे को मसलने शुरू कर दिए, जितना ज़ोर से वो रूबीना के मम्मे को मसलता उतने ही ज़ोर से उस की बहन रूबीना उस के लंड को पकड़ कर खींचती और दबाती.

ऐसा लग रहा था जैसे अंधेरे कमरे में दोनो बहन भाई आपस में कोई मुकाबला कर रहे हों .पूरे कमारे में दोनो की आहें, कराहें और सिसकियाँ गूँज रही थीं. 
Reply
10-11-2018, 01:31 PM,
#8
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
रमीज़ ने रूबीना को थोड़ा सा उठाया और उस ने अपने हाथ रूबीना की कमर पर ले जा कर अपनी बहन के ब्रा की हुक खोल दी.

बहन के ब्रा की हुक खोलते ही एक बेसबरे बच्चे की तरह रमीज़ ने ब्रा को खींच कर निकाला और अपनी बहन के बदन से दूर फेंक दिया. अब रूबीना अपने भाई के सामने कमर से उपर पूरी नंगी थी. 

हालाँकि कमरे में बहुत अंधेरा था लेकिन रूबीना अपने भाई की नज़रें अपने जिस्म पर महसूस कर रही थी.

रमीज़ ने अपना मुँह नीचे झुकाया और अपनी बहन के राइट मम्मे को जीभ से चाटने लगा. 

भाई का मुँह अपने मम्मे पर लगते ही रूबीना तो जैसे सिहर उठी. उस ने अपने भाई का सिर पकड़ कर अपने मम्मे पर दबाया तो रमीज़ ने मुँह खोला और अपनी बहन के तने हुए निपल को मुँह लगा कर चूसने लग गया 

"रमीज़े... रमीज़े ए तू की कर दित्ता है..शीयी”रूबीना फरहत-ए-जज़्बात में पंजाबी ज़ुबान में चिल्ला उठी.

मगर रमीज़ ने अपनी बहन की बात का कोई जवाब नही दिया और ज़ोर ज़ोर से रूबीना के निपल को काटते हुए उसे चूस्ता रहा, बीच बीच में उसे बदल कर दूसरे मम्मे को चूसने लग जाता. रमीज़ एक मम्मा चूस्ता तो दूसरा मसलता.रूबीना अपने भाई का वलिहाना प्यार महसूस कर के मज़े के मारे पागल हो रही थी..

पंद्रह मिनिट मम्मे चूस्ते हो गयी थे और रूबीना अब बेसूध होती जा रही थी.तभी रूबीना ने अपने भाई का हाथ अपनी सलवार के नाडे पर महसूस किया. रमीज़ ने रूबीना का मम्मा मुँह से निकाला और फिर अपनी बहन की शलवार का नाडा पकड़ कर एक ही झटके में खोल दिया. 

चुदाई की हवस में डूबी हुई रूबीना ने भी बिना सोचे समझे अपनी कमर उठा कर अपने आप को पूरा नगा करने में अपने ही भाई की मदद की.

अगले ही पल रूबीना ने अपने भाई की उंगलियाँ अपनी पैंटी के एलस्टिक में महसूस की और फिर दूसरे झटके में रूबीना की पैंटी भी उस के बदन से अलहदा हो गयी . 

अब रूबीना पूरी से नंगी थी. आज से पहले वो ये कभी सोच भी नही सकती थी कि उस का अपना भाई उसे कभी इस तरह ना सिर्फ़ नंगी करे गा बल्कि वो खुद उस के हाथों नंगी होने में उस की मदद करे गी. 

लेकिन वो सब कुछ जो सोचा नही था हो रहा था और तेज़ी से हो रहा था.

अपनी बहन को मुकम्मल नंगा करने के बाद रमीज़ ने भी अपनी शलवार उतार कर नीचे फैंक दी.रूबीना बिस्तर पर अपनी टांगे फैलाए पड़ी थी.

खुद को नंगा करते ही एक भी लम्हा ज़ाया किए बैगर रमीज़ फॉरन अपनी बहन रूबीना की खुली टाँगों के बीच आया और अपना लंड अपनी बहन की चूत के मुँह पर टिका दिया. 

अपने भाई के मोटे ताज़े और जवान लंड का अपनी गरम प्यासी चूत के साथ टकराव महसूस करते ही रूबीना की चूत जो पहले ही बूरी तरह से गीली थी, वो कांप सी गयी.

रूबीना ने बे इकतियार अपनी बाँहे अपने भाई की कमर के गिर्द लपेट दीं.रूबीना से अब इंतज़ार नही हो रहा था.वो चाहती थी कि अब उस का भाई अपना लंड उस की चूत के अंदर डाल कर उसे बस चोद ही डाले.

रमीज़ अपना लंड अपनी बहन की फुद्दी में डालने की बजाय फुद्दी के होंठो पर के उपर ही अपना लंड रगड़ने लगा. शायद वो अपनी बहन की फुद्दी की प्यास और बढ़ाने के लिए जान बुझ कर एसा कर रहा था.

रूबीना के लिए वाकई ही ये बात अब नकाबिले बर्दास्त होने लगी थी और वो हवस के तूफान में अंधी हो कर अपने भाई पर बरस पड़ी.

“ये क्या कर रहा है. अंदर डाल...अंदर डाल जल्दी से...ही...अब बर्दाश्त नही होता! जल्दी कर!”

रमीज़ ने जब अपनी बहन के मुँह से ये इल्फ़ाज़ सुने तो एक पल के लिए वो अंधेरे में ही रूबीना का मुँह तकने लगा. शायद उसे यकीन नही हो पा रहा था कि उसकी बहन जिसे वो बचपन से जानता है एसा भी बोल सकती है. 

लेकिन रूबीना अपने होशो हवास गँवा चुकी थी. और अब बिस्तर पर रमीज़ के सामने एक बहन नही बल्कि एक प्यासी औरत पड़ी थी.जिस के बदन की आग आज बहुत उँचाई पर पहुँच चुकी थी. और ये आग अब उस वक़्त सिर्फ़ रमीज़ के लंड से ही बुझ सकती थी. 

“भाईईईईईईई क्या सोच रहे हो..इसे जल्दी से अंदर डाल...वरना में पागल हो जाऊंगी” रूबीना लगभग चिल्ला उठी थी. 

अपनी बहन के चिल्लाने पर रमीज़ जैसे नींद से जाग उठा. उस ने जल्दी से लंड अपनी बहन की फुद्दि के मुँह पर टिकाया और रूबीना की पतली कमर को अपने हाथों से मज़बूती से थाम लिया.

रूबीना ने मदहोशी में अपनी आँखे बंद कर ली, और उस लम्हे के लिए खुद को तैयार कर लिया जिस का उसे अब बेसबरी से इंतज़ार था. 

रमीज़ ने दबाव बढ़ाया और उस का मोटा लंड उस की बहन फुद्दी के लिप्स को फैलाता हुआ फुद्दी के अंदर जाने लगा.

पिछले तकरीबन एक साल से रूबीना अपनी शोहर से खूब चुदि थी मगर अपने भाई के मोटे लंड का एहसास ही कुछ और था.

शादी शुदा होने के बावजूद रूबीना की फुद्दि काफ़ी टाइट थी और रमीज़ के लंड की मोटाई ज़्यादा होने की वजह से रमीज़ को अपना लंड बहन की चूत में डालते वक़्त खूब ज़ोर लगाना पड़ रहा था. 

रूबीना को अपने भाई के मोटे लंड को अपनी चूत के अंदर लेते वक़्त हल्की हल्की तकलीफ़ तो हो रही थी. लेकिन जोश में होने की वजह से उसे अब किसी भी तकलीफ़ की परवाह नही थी. बल्कि उसे तो इस तकलीफ़ में भी एक मज़ा आ रहा था.

रूबीना ने अपने भाई के कंधे थाम लिए और अपनी कमर पूरे ज़ोर से उपर उठाते हुए भाई की मदद करने लगी. 

लंड की टोपी अंदर घुसा कर रमीज़ रुका फिर उसने रूबीना की कमर पर अपने हाथ कस लिए और एक करारा धक्का मारा.

“हाए...हाए.... रमीज़े....मार दित्ता तू मेनू...उफ़फ्फ़...बहुत मोटा है तेरा”रूबीना ने फिर मज़े से कराहते हुए कहा.

रमीज़ के उस एक धक्के में उस का आधा लंड उस की बहन की फुद्दी में पहुँच चुका था.

रमीज़ ने लंड बाहर निकाला और फिर एक ज़ोरदार धक्का मारा. इस बार लंड और अंदर तक चला गया,
Reply
10-11-2018, 01:31 PM,
#9
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
इसी तरह वो पूरा लंड एकदम से अंदर डाल कर आहिस्ता आहिस्ता अपनी बहन को चोदने लगा. कुछ ही मिनिट्स में रमीज़ का लंड रूबीना की फुद्दि की जड़ तक पहुँच चुका था. 

रूबीना ने अपनी टांगे अपने भाई की कमर के गिर्द लपेट दी. रूबीना के मुख से फूटने वाली हल्की कराहे उस के भाई का हॉंसला बढ़ा रही थीं और वो हर धक्के पर अपनी पूरी ताक़त लगा रहा था. 

और रूबीना... मज़े की इस हालत में पहुँच चुकी थी. कि इस हालत को लफ़ज़ो में बयान करना उस के लिए ना मुमकिन था.

*आराम से रमीज़े....इतना भी ज़ोर मत लगा कि मेरी कमर टूट जाए.....तेरे पास ही हूँ जितना चाहे तू मुझे......*

*क्या करूँ बाजी...उफ्फ तुम्हारी इतनी टाइट है.....कंट्रोल नही ....होता..........एसा मज़ा जिंदगी में पहले कभी नही आया*

*नही रे तेरा ही इन्ना मोटा है के.....देख तो कैसे फँसा हुया है....उफ्फ कैसे रगड्र रहा है मेरी फू....* रूबीना के मुँह से फुद्दि का लफ़्ज निकलते निकलते रह गया.

रूबीना ने कभी भी अपने शोहर के साथ सेक्स करते हुए ऐसी ज़ुबान का इस्तेमाल नही किया था.मगर आज अपने भाई के साथ इतनी गर्म जोशी से सेक्स करते वक़्त रूबीना शरम-ओ-हेया की सभी हदें पार कर जाना चाहती थी.

फुद्दि और लंड की जंग जारी थी. फुद्दि में लगा तार पड़ रहे ज़ोरदार धक्कों से ज़ाहिर हो रहा था. कि रमीज़ को अपनी बहन की फुद्दी चोदने में कितना मज़ा आ रहा था. 

वो हर धक्के में लंड रूबीना की फुद्दि की जड़ तक डाल देता. उस का लंड रूबीना की बच्चे दानी पर ठोकर मार रहा था. हर धक्के के साथ उसके टटटे रूबीना फुददी के नीचे ज़ोर से टकराते. 

रूबीना भी अपने भाई की ताल से ताल मिलाते हुए अपनी कमर उछालती हुई अपनी फुद्दि अपने भाई के लंड पर पटकने लगी.

रूबीना ने रमीज़ के कंधे मज़बूती से थाम लिए और अपनी टाँगे उसके चुतड़ों के गिर्द कस दी और अपने भाई के हर धक्के का जवाब भी उतने ही जोश से देने लगी जितने जोश से वो अपनी बहन को चोद रहा था.हर धक्के के साथ रूबीना के मुख से सिसकारियाँ फुट रही थी.

दोनो बहन भाई के जिस्मों के टकराने और लंड की गीली फुद्दि में हो रही आवाज़ाही से पूरे कमरे में आवाज़ें गूँज़ रही थी.

*और ज़ोर लगा रमीज़े! और ज़ोर से! हाए एसा मज़ा पहले कभी नही आया! और ज़ोर लगा कर डालो मेरी चूत में भाई*रूबीना के मुँह से निकलने वाले अल्फ़ाज़ ने आग में घी का काम किया. 

रमीज़ एक बेकाबू सांड़ की तरह अपनी बहन रूबीना को चोदने लगा. सॉफ ज़ाहिर था कि उसे अपनी बहन के मुँह से निकले उन गरम अल्फाज़ो को सुन कर कितना मज़ा आया था.

और उसके जोश में कितना इज़ाफ़ा हो गया था. जिस की वजह से उस का हर धक्का उस की बहन की फुद्दि को फाड़ कर रख देने वाला था.

*सबाश भाई...चोद मुझे...और ज़ोर से धक्का मार.... पूरा अंदर तक डाल अपना लंड मेरी फुद्दि में*

आज रूबीना ने सब रिश्ते नाते भुला कर दुनियाँ की सब हदें पार कर लीं और इसका इनाम भी उसे खूब मिला. 

रमीज़ अपने दाँत पिसते हुए बुलेट ट्रेन की रफ़्तार से अपनी बहन की फुद्दी चोदने लगा. 

रूबीना के जिस्म में जैसे करेंट दौड़ रहा था. फुद्दि के अंदर पड़ रही चोटों से मज़े की लहरें उठ कर पूरे बदन में फैल रही थी. जिस वजह से रूबीना अपना जिस्म अकड़ाने लगी. रूबीना अब जल्दी ही छूटने वाली थी.

*हाए! मार दित्ता मेनू!.... उफफफ्फ़ अपनी बहन को..... चोद रहा है या.... पिछले.... किसी जनम का... बदला ले रहा है* 

*नही मेरी बहना! ...में तो... तुझे.... दिखा रहा हूँ असली.... चुदाई कैसे... होती है. कैसे एक मर्द....... औरत की तस्सली करता है* 

*हाए.... देखना कहीं..... तस्सल्ली करते करते..... मेरी फुद्दी ना फाड़ देना* 

रूबीना ने अपनी बाहें अपने भाई की गर्दन पर लपेट दीं और अपनी टाँगे भाई की कमर पर और भी ज़ोर से कस दीं. 

रूबीना की कमर अब हिलनी बंद हो चुकी थी. दोनो भाई बहन बुरी तरह से हांफ रहे थे. 

रूबीना को अपनी टाइट फुद्दि में अपने भाई का लंड फूलता हुआ महसूस हुआ, लगता था वो भी फारिग होने के करीब ही था. 

*रमीज़े ...में छूटने..... वाली हूँ...मेरे साथ साथ तू भी...हाई....हाई...उफफफ्फ़....भाई...भाईईईईईईई!* और रूबीना की चूत फारिग होने लगी, फुद्दि से गाढ़ा रस निकल कर भाई के लंड को भिगोने लगा.रूबीना की फुद्दि बुरी तरह से खुलते और बंद होते हुए अपने भाई के लंड को कस रही थी. 
Reply
10-11-2018, 01:31 PM,
#10
RE: Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम
रमीज़ ने पूरा लंड बाहर निकाल कर पूरे ज़ोर से अंदर पेला, ऐसे ही दो तीन ज़ोरदार धक्के मारने के बाद एक हुंकार भरते हुए रूबीना के उपर ढह पड़ा. रमीज़ के लंड से गाढ़ी मलाई निकल कर उस की बहन की चूत को भरने लगी. उन दोनो की हालत बहुत बुरी थी. 

रूबीना को एक अंजानी ख़ुसी का अहसास अपने पूरे जिस्म में महसूस हो रहा था.उसे लग रहा था जैसे उस का जिस्म एकदम हल्का हो कर आसमान में उड़ रहा हो. वो पल कितने मजेदार थे, एसा सुख, एसा करार उस ने ज़िंदगी में पहली बार महसूस किया था.

आहिस्ता आहिस्ता रूबीना की फुद्दि ने फड़कना बंद कर दिया. 

उधर रमीज़ का लंड भी अब पूर सकून हो चुका था और आहिस्ता आहिस्ता उस का लंड भी सॉफ्ट होता जा रहा था. 

रमीज़ अभी तक अपनी बहन के उपर ही गिरा पड़ा था. और उस के जिस्म के बोझ तले रूबीना के लिए अब हिलना भी मुश्किल था.

थोड़ी देर बाद रमीज़ रूबीना के उपर से उठ कर उस के बराबर में लेट गया.

जब दिमाग़ से चूत की गर्मी कम हुई तो तब रूबीना के होशो हवास वापिस लोटने लगे और अब रूबीना का सामना एक होलनाक हक़ीक़त से हो रहा था. अब उसे ये एहसास हो रहा था कि उन दोनो भाई बहन ने कैसा गुनाह कर दिया है. 

रूबीना ने जब उन अल्फ़ाज़ को अपने दिल में दोहराया जो उस ने कुछ लम्हे पहले रमीज़ से सेक्स करते हुए उस को कहे थे तो रूबीना के पूरे बदन में झुरजूरी सी दौड़ गयी.

“में इतनी बेशर्म और बेहया कैसे बन गयी? मेरे मुँह से वो अल्फ़ाज़ कैसे निकल गये? कैसे में भूल गयी कि में अब शादी शुदा हूँ? में क्यों खुद को ये गुनाह करने से रोक नही पाई?”

रूबीना के दिल में अब ये तमाम सवाल उठ रहे थे. जिन का कोई भी जवाब उसे सूझ नही रहा था. 
सब से बड़ा सवाल तो ये था कि अब में अपने भाई रमीज़ का सामना कैसे करूँगी!

“वो मेरे बारे में क्या सोच रहा होगा? कैसे में एक बाज़ारु औरत की तरह उस से पेश आ रही थी! मेरा काम तो अपने भाई को ग़लत रास्ते पर जाने से रोकना था मगर में तो खुद......खुदा मुझे इस गुनाह के लिए कभी माफ़ नही करेगा” रूबीना दिल ही दिल में खुद को दुतकार रही थी.

उधर बिस्तर पर रमीज़ की तरफ से भी कोई हलचल नही हो रही थी. शायद उसे भी अपनी बहन रूबीना की सोच का अंदाज़ा हो गया था. जिस वजह से शायद उसको भी अफ़सोस हो रहा था और वो भी अपनी बहन की तरह अपने किए पर अब पछता रहा था.

रूबीना ऐसे ही सोचों में गुम बिस्तर पर पड़ी रही. कोई रास्ता कोई हल उसे नही सूझ रहा था.

रूबीना जितना अपने किए हुए गुनाह के बारे में सोच रही थी उतना ही उसे खुद से नफ़रत हो रही थी. ऐसी ही सोचों में गुम काफ़ी वक़्त गुज़र गया.
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली sexstories 65 4,743 Yesterday, 02:03 PM
Last Post: sexstories
Star Adult Kahani छोटी सी भूल की बड़ी सज़ा sexstories 45 12,594 06-25-2019, 12:17 PM
Last Post: sexstories
Star vasna story मजबूर (एक औरत की दास्तान) sexstories 57 16,932 06-24-2019, 11:22 AM
Last Post: sexstories
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा sexstories 227 122,337 06-23-2019, 11:00 AM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 117 134,873 06-22-2019, 10:42 PM
Last Post: rakesh Agarwal
Star Hindi Kamuk Kahani मेरी मजबूरी sexstories 28 34,421 06-14-2019, 12:25 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Chudai Story बाबुल प्यारे sexstories 11 15,772 06-14-2019, 11:30 AM
Last Post: sexstories
Star Sex Kahani आंटी और माँ के साथ मस्ती sexstories 94 61,492 06-13-2019, 12:58 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Desi Porn Kahani संगसार sexstories 12 14,421 06-13-2019, 11:32 AM
Last Post: sexstories
Star Incest Kahani पहले सिस्टर फिर मम्मी sexstories 26 36,743 06-11-2019, 11:21 AM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Printable version bollywood desibeesgooru ghantal ki xxx kahaniyana wife vere vaditho telugu sex storiesBra khichate hua boobs dabayeAntervasna sax Baba hamara chudakad parivar.netepisode 101 Savita bhabhi summer 69aunty ko mst choda ahhhh ohhhhh ahhhbra bechnebala ke sathxxxಹೆಂಗಸರು ತುಲ್ಲಿಗೆ ಬಟ್ಟೆchut chudty tame lund jab bacchedani ghista hai to kaisa lagta hota hai Bholi bhali bahu ki chalaki se Chudai - Sex Story.villg kajangal chodaexxxAmma officelo ranku dengudu storiesPel kar bura pharane wala sexxxx photo of hindi actorss mootsti huiChudae ki kahani pitajise ki sexantrbasna maChodasi ldkiyan small xxxx vedioआ आ दुखली गांडbhai ne apni behno ki thukai kichudai ki khani aurat ney choti umar laundey sey chudaiyaबेटा शराब मेरी चूत मे डालकर पीयोHema Malini and Her Servant Ramusex storyबचचा पदा होते हुये विडीओ बचचा चुत मे से बहार निकलते हुये विडीओ अच डीrekatrina.xnxxindian ladki pusi porn xxx cadhi parमर्दो को रिझा के चुद लेती हुDivyanka tripathi sex baba net 20193sex chalne walesara ali khan xxxx photo by sexbaba.netmanisha yadav nude.sexbaba.comsneha ullal nude archives sexbabasexbabaMaa khet me hagane ke bahane choda hindi storysexbaba/sayyesha सेक्सी वीडियो बनाकर जो नेट पर चढ़ाया गया जबरदस्तीnivetha thomas fake boobshindiactresssexbabarhea chakraborty nude fuked pussy nangi photos download bade bade boobs wali padosan sexbabaimgfy.net ashwaryaXxx bf video ver giraya malअंकिता कि xxx babaFoudi pesab krti sex xxx lambi hindi sex kahaneyaSheetal ki sexy wali chu Sheetal ki sexy wali chut Bina Baal kiMadhuri dixit saxbaba.netsaumya tandon sex babasaumya tandon sex babachoti choti लड़की के साथ सेक्सआ करने मे बहुत ही अच्छा लगाwww.land dhire se ghuserosex xsnx kanada me sex kal saparMalvika sharma nude fucking sex baba pahad jaisi chuchi dabane laga rajsharma storylund geetu Sonia gand chut antervasnama chutame land ghusake betene usaki gand mariananya pandey latest nude fucked hd pics fakeXxx भिंडी के सामने चोदता थाDidi ko choda sexbaba.Netxnxxxxx.jiwan.sathe.com.ladake.ka.foto.naam.pata.xxxFull lund muh mein sexy video 2019xxx bibi ki cuday busare ke saath ki kahani pornTabu Xossip nude sex baba imagesHOT SEXI GIRL SEX PORN SEX PICS ILINA D CURUZAदोन लंड एकाच वेळी घालून झवलेघर का माल सेक्सबाबbabuji ko blouse petticoat me dikhai debhai ne jhaant k baal ukhad diye sex storydeeksha Seth ki jabarjasti chudaiMom me muta mere muh meనానా అమ్మలా సెక్స్जबरदती पकडकर चूदाई कर डाली सेक्सीGanda chudai sexbaba.netरंडी आईला जवली सेक्स स्टोरीTravels relative antarvasna storyयोनीत पिचकाऱ्याmeri pyari maa sexbaba hindixxx sex deshi pags vidosn v.j sangeeta pussyPORN HINDI ANTARVASNA GANDE SE GANDE CHODA CHODI GALI KI KHANI PHOTO IMAGING MASTRAMgav ki ladki nangi adi par nahati hd chudai videorone lagi ye actars sex karneseशुभांगी XXX दुध फोटोuuuffff mri choot phat gai hd videoxxx sex moti anuty chikana mal videorasili kahaniya sex baba.comRukmini mitra fuck pussy sex wallpaper. In anouka vrat xxx anoskaकमसिन घोड़ियो की चुदाईlarkike chut me khud ka unguli dalne ka videodeepshikha nude sex babaX x x video bhabhidhio lagake chodabra bechnebala ke sathxxxदिपिका कि चोदा चोदि सेकसि विडीयोmummy ne apni panty de sunghne